Monday, 22 July 2013

यादे !

यादे !
कौन भुले और भुलाये कौन..
गुजरे वक़्त को बुलाये कौन...
सुबहे है जाने क्यूँ हैं संजीदा इतनी
शाम से भी नजरे मिलाये कौन ?
तुम्हे याद करना किसी सज़ा से कम नही..
आज इन राहो से तुम्हे आवज लगाये कौन..
वक़्त खंजर,वक़्त मरहम यही अदा उसकी..
अब तुम्हारी बेगानगी तुम्हे बताये कौन ???