Monday, 2 December 2013

धरती ने कुछ फूल खिलाये ... ..


बात है कई सदियों पुरानी
जब आदम-हव्वा अजनबी थे                                                                    
हवा किसी बंद गुफा में सोई थी
समन्दर प्यासे हुआ करते थे
जब जमीं में ठहराव नहीं था...
आसामन अपने लिए रंग ढूंढ़ता था
सितारे जमीं पे चला करते थे
चाँद रौशनी से जुदा एक पिंड था
सूरज में तपिश नहीं थी
बादलों से आग बरसती थी

तभी एक रोज दरख्तों से दूर
अपने-अपने साए तले मिले वो
हवाएं लहरा के दरख्तों को चूमने लगीं
समन्दरों ने नदियों के संग प्यास बुझाई
जमीं ठहर कर पनाहगाह हो गई
आसामन ने हर पहर के लिए रंग चुना                                                               
सितारे ख़ुशी से चमक के आसामन छूने लगे
चाँद चांदनी को छू के रोशन हुआ
सूरज ने बादलों की आग समेट ली
बादल नर्म फाहे से झूमते हुए बरसे

इस तरह धरती ने कुछ फूल खिलाये                                                           
दुनिया जगी और जिन्दगी रवां हो चली .