Saturday, 14 September 2013

मीठी फुहार सी....



                                मीठी फुहार सी जो तुम आ जाओ ..
                
                        तो जेठ की दोपहर भी सावन की रिमझिम हो..

                               पतझड़ भी बहारों सा गुनगुनाने लगे..

                       कड़कती ठण्ड  भी बसंत का आगाज हो..

                             
                              मीठी फुहार सी जो तुम आ जाओ ..
                     
                     तो जिन्दगी की तपिश को राहत मिले ..

                             रिश्तों  पे  मेरा  ऐतबार  ठहरे..

                    मेरे बेचैन  दिल  को  करार आ  जाए..


                            मीठी फुहार सी जो तुम आ जाओ..

                    तो मेरी आँखों में कँवल सी खिलो..

                           मेरे होंठों पे  गजल  सी  रहो..

                  मेरे  चेहरे  पे  ख़ुशी  सी  छलको..

        
                       मीठी फुहार सी जो तुम आ जाओ....तो !