Thursday, 12 September 2013

बजरा




 
शाम ढले सितारों जड़े आसमां के तले
एक बजरा नदी की लहरों पे हिलोरें लेता हुआ...
दो जिस्म महकते से..बजरे के भीतर पर्दों के ओट में..
बजरे के रोशनदान से चाँद झांकता ..मुस्कुराता हुआ सा..
झील के लहरों पे बलखाता हुआ..गुजरता हुआ....बजरा..
और बजरे के भीतर दो सुलगते हुए दिल...प्यार से लबरेज..
चांदनी से भीगे,सफ़ेद,नर्म बर्फ की चादरों में लिपटे पहाड़..
और जाफरान के खेतों से गुजरता हुआ बजरा..बंजारा सा..
सब मूक देखते रहे दो आत्माओं का घुलना एक-दुसरे में..

इतने ही गवाह थे -शाम,सितारे,आसमां,चाँद,झील,पहाड़,जाफरानी खेत और बजरा !